KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बहुरूपिया

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

           *बहुरूपिया*
            —————-
बकरी बनकर आया,
मेमने को लगाकर सीने से,
प्यार किया,दुलार किया!
दूसरे ही क्षण–
भक्षण कर मेमने का,
तृप्त हो डकारा,
बहुरूपिये भेड़िये ने फिर,
अपना मुखौटा उतारा!!
—-डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’
अम्बिकापुर,सरगुजा(छ. ग.)
            ——————-