KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

माटी तोर मितान

0 37

माटी तोर मितान

तै हावस निचट आढ़ा,
नई हे थोरको गियान !
जांगर टोर मेहनत करे,
माटी तोर मितान !!

टेंड़गा पागा टेंड़गा चोंगी,
टेंड़गा पहिरे तैहा पागी !
धरे नांगर धरे कुदारी,
चकमक पखरा छेना म आगी !!
बहरा कोती तै बोवत हवस धान….

ऊँच-नीच भेदभाव नई जाने,
सबो ल तै अपन माने !
गंगा बरोबर निरमल मन,
छल कपट थोरको ऩई जाने !!
कभू नई बने तैह सियान …..             

दास (दूज)
      साह.शि़ .( एल़. बी़)
     भरदाकला (खैराग

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.