KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

साल नया आ गया(saal naya aa gaya)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar#happynewyear

नई प्रभात की नई किरण ।
नई खुशबू भरा नई पवन ।
नई उल्लास से नया जीवन ।
नई उमंग भरा नई यौवन ।
सब लागे नया नया ।
हाँ!साल नया आ गया ।
नई ठौर पर नई निगाह ।
नया जोश संग नई उत्साह।
नया होश लेके नई चाह ।
नई मंजिल के लिए नई राह।
सब कुछ लागे नया नया ।
हाँ! साल नया आ गया ।
नई मोड़ से नई दिशा ।
नई कदम और नई आशा।
नया दिन और नई निशा।
नया जाम में नया नशा ।
सब कुछ लागे नया नया ।
हाँ! साल नया आ गया।


 मनीभाई ‘नवरत्न’,छत्तीसगढ़, 
(Visited 9 times, 1 visits today)