KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कैसे जाल बिछाया है कोरोना

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

कैसे जाल बिछाया है कोरोना

कैसे जाल बिछाया है ?
तूने रे कोरोना!
हाहाकार मचा दिया है,
हो रही है रोना !!
कोरोना बोला सुन रे मानव,
छोड़ दिया तूने अपनी संस्कृति,
संस्कार भी भुला दिया !
हाय हलो कर हाथ मिलाकर,
रोगो को फैला दिया !!
खान पान सादगी भुला ,
माँसाहार अपना लिया !
सत्य अहिंसा दयाभाव,
दिलो से दफना दिया !!
इसी कारण सून रे मानव ,
कर्म का फल तू भोगना !
हाहाकार मचा दिया है,
हो रही है रोना !!

दूजराम साहू
निवास भरदाकला
तहसील खैरागढ़
जिला राजनांदगाँव( छ. ग.)

Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. अनाम says

    Nice