KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हे धरती के भगवान (hey dharti ke bhagwaan)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

हो तुम आसाधारण,
तेरे कांधों पर दुनिया टिका है,
तेरे खून के कतरे से ही  ,
ये पावन धरती भिंगा है !!
हे धरती के भगवान ,
तु है बड़ा महान !!
ऊसर भूमि उपजाऊ कर देता,
कठोरता खुद हर लेता ,
नित नव जुनून कुछ करने का ,
कभी न सोचा स्वयं रखने का ,
कमा-कमा कर तू रे प्यारे ,
औरो को कर दिया धनवान …!!
न धूप लगे न ठंड ,
रहे नंद धड़ंग ,
नहीं भय है बारिस का,
न चिंता है वारिस का ,
हाल कमाना हाल खाना ,
नहीं रखता कोई खजाना !
नही है मन मे कोई अभिमान …..!!
ऊँचा-ऊँचा महल बनाया,
ऐश्वर्य से खूब सजाया ,
बड़े-बड़े कल कारखान कोे ,
ऊँगली से खूब नचाया ,
विकास तेरे हाथो से आगे बड़ा,
तु रह गया वही का वही अनजान …. !
गर तू कही कांधे हटा दे तो,
देखना दुनिया मे गजब हो जाए !
फलता फूलता यह चमन का ,
एक-एक कलि यु ही मुरझा जाए !
तेरे पल भर के  रूकने से,
दुनिया की गति रूक जाए,
सच कहे तो तू ही है मनू के संतान…. !
जीवन भर तू खूब कमाया,
पेट की आग न बुझा पाया ,
न किमत तेरे मजदूरी का ,
कोई सही-सही न दे पाया ,
सोने को एक छत नही ,
आलिशान महले बनाया ,
‘अनन्य’ तेरे महिमा का
कर रहा गुनगान …!!
   दूजराम साहू ” अनन्य “
निवास -भरदाकला(खैरागढ़)
जिला- राजनांदगाँव (छ.ग.)