KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

छत्तीसगढ़िया कवि दूजराम साहू के द्वारा रचित “पांच दिन बर आये देवारी” आप सबका मन मोह लेगी, इस कविता का आनंद लीजिये।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

पांच दिन बर आये देवारी
_________________________
    माटी के सब दीया बारबो
         एसो के देवारी म। 
    जुरमील सब खुशी मनाबो 
         एसो के देवारी म।। 
     पांच दिन बर आये देवारी
        अपार खुशी लाये हे । 
     घट के भीतर रखो उजियारा
         सब ल पाठ पढ़ाये हे। 
     ईर्ष्या, द्वेष सब बैर भगाबो
         एसो के देवारी म।। 
    जुआ, तास, नशा ,पान
     घर बर ये नरकासुर हे ।
    बचत के सब आदत डालो
    यही जिनगी के बने गून हे। 
    भुरभूंगीया पन छोड़ो सब
       एसो के देवारी म।। 
    धन-लक्ष्मी, महा-लक्ष्मी 
      नारी ल सब मानो जी। 
   कोई दू:शासन न सारी खिचे 
    ईही ल भाई दूज जानो जी। 
   नारी सम्मान के ले प्रतिज्ञा 
         एसो के देवारी म।। 
  
    गाय दूध, गोबर सिलिहारी 
     पूजा बर कहा ले पाहू जी। 
    पर्यावरण, गाय नई बचाहू त
      जीवन भर पछताहू जी। 
     एक पेड़ सब झन पालो 
          एसो के देवारी म।। 
       संस्कृति ले सीख मिलथे 
    जीनगी  के कला सीखाथे जी। 
        मया – प्रेम -प्रीति बढ़ाथे
         बिछड़े ल मिलाते जी। 
     फेशन में घलो संस्कृति बचाबो
          एसो के देवारी म।। 
दूजराम साहू 
निवास -भरदाकला 
तहसील- खैरागढ़ 
जिला- राजनांदगांव (छ .ग.) 
8103353799
   
     
   
  
Leave A Reply

Your email address will not be published.