KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

राम- नाम ही सत्य रहेगा

श्री रामचंद्र भगवान पर आधारित उपमेंद्र सक्सेना
की रचना पढिय़े

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

राम- नाम ही सत्य रहेगा

वर्ष पाॅंच सौ गुजरे रोकर, अब हमको आराम मिला।
इतने पापड़ बेले तब ही, भव्य राम का धाम मिला।।

सच्चे राम- भक्त जो होते, नहीं किसी से वे डरते।
भोले बाबा उनकी सारी, इच्छाएँ पूरी करते।।
जय बजरंग बली की बोलें, वे कष्टों को हैं हरते।
जो उनसे नफरत करते हैं, देखे घुट-घुट कर मरते।।

राम लला आजाद हो गए, सुख अब आठों याम मिला।
इतने पापड़ बेले तब ही, भव्य राम का धाम मिला।।

सदा आस्था रही राम में, अब तक थे हम दबे हुए।
जो बाधा बनकर आए थे, जल- भुन काले तबे हुए।।
मर्यादाओं के मीठे में, आज पके सब जबे हुए।
संघर्षों के चने यहाॅं पर, लगते हैं सब चबे हुए।।

आज अयोध्या नगरी को भी, एक नया आयाम मिला।
इतने पापड़ बेले तब ही, भव्य राम का धाम मिला।।

राम -नाम ही सत्य रहेगा, तो हम क्यों उसको छोड़ें।
‘सत्यमेव जयते’ से भी हम, कभी न अपना मुॅंह मोड़ें।।
राम -राज्य भी अब आया है, उससे हम नाता जोड़ें।
बाधाओं की यहाॅं बेड़ियाॅं, मिलजुल कर हम सब तोड़ें।।

जिनके सपने भटक रहे थे, उनको एक मुकाम मिला।
इतने पापड़ बेले तब ही, भव्य राम का धाम मिला।।

रचनाकार-

उपमेंद्र सक्सेना एड०
‘कुमुद- निवास’
बरेली (उत्तर प्रदेश)
मो० नं०- 98379 44187