KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

शब्द तुम मीत बनो

बसंत पंचमी के उपलक्ष्य में

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

शब्द तुम मीत बनो

शब्द मेरे मन मीत बनो ,
जीवन का संगीत बनो,
हर मुश्किल हालातों में ,
मेरी अपनी जीत बनो।

नित्य तुम्हारी साधना,
करती रहूँ आराधना।
कर देना मनमुदित मुझे ,
व्यवहारिक नवनीत बनो।

सदा सहयोग तुम्हारा ,
हृदय प्रफुल्लित हमारा।
अभिव्यक्ति अनमोल बने,
प्रणय के मेरे गीत बनो।

सहज धारा भावों की हो,
फिर लेखन में समृद्धि हो।
दुनिया भर का सुख तुमसे,
मेरे सुर – संगीत बनो।

संकोच नहीं तुमसे कभी,
तुम मन के उद्गार सभी।
मुखरित रहो सदा मुख से ,
मन की प्यारी प्रीत बनो।

तुम मेरी परिचय-रेखा ,
बाकी कर्म है अनदेखा।
जीवन भर साथ हमारा ,
तुम सुखमय अतीत बनो।

शब्द शब्द तुम कली बनो,
और निखरकर सुमन बनो।
माँ सरस्वती की हो कृपा ,
तुम कविता की रीत बनो।

मधुसिंघी
नागपुर(महाराष्ट्र)