03 जून विश्व साइकिल दिवस पर दोहे

03 जून विश्व साइकिल दिवस पर दोहे पाँवगाड़ी साइकिल साधन एक है,सस्ता और आसान।जिसकी मर्जी वो चले, चल दे सीना तान।।बचपन साथी संग चढ़, बैठे मौज उड़ाय।धक्का दें साथी गिरे…

0 Comments

सायकिल दिवस विशेष कविता -मनीभाई

सायकिल दिवस विशेष कविता -मनीभाई manibhai navratna अपने बचपन में , की थी जिससे यारी। वो मेरी सायकिल,जिसमें करूँ सवारी । आज बदहाल पड़ा, कहीं किसी कोने में सेवा कर…

0 Comments

चालान- धनेश्वर पटेल

चालान एक दिन निकले हम सैर परतो हेलमेट लगाना भूल गएहुआ हादसा कुछ ऐसा किफटफटिया चलाना भूल गए!स्पीड बढ़ी कांटा लटका दूसरी छोरहम समझ थे अपने बाप की रोड़बुलेट घुमाई…

0 Comments