अटल बिहारी वाजपेयी (25 दिसंबर 1924 – 16 अगस्त 2018) भारत के दो बार के प्रधानमंत्री थे। वे पहले 16 मई से 1 जून 1996 तक, तथा फिर 19 मार्च 1998 से 22 मई 2004 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। वे हिंदी कवि, पत्रकार व एक प्रखर वक्ता थे। वे भारतीय जनसंघ के संस्थापकों में एक थे, और 1968 से 1973 तक उसके अध्यक्ष भी रहे। उन्होंने लंबे समय तक राष्‍ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत अनेक पत्र-पत्रिकाओं का संपादन भी किया।

atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

अटल बिहारी वाजपेई के लिए कविता

अटल बिहारी वाजपेई के लिए कविता हरिगीतिका छंद. (मापनी मुक्त १६,१२). अटल - सपूतश्री अटल भारत भू मनुज,हीशान सत अरमान है।जन जन हृदय सम्राट बन कवि,ध्रुव बने असमान है।नहीं भूल…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

ऊँचाई / अटल बिहारी वाजपेयी

ऊँचाई / अटल बिहारी वाजपेयी ऊँचे पहाड़ पर,पेड़ नहीं लगते,पौधे नहीं उगते,न घास ही जमती है। जमती है सिर्फ बर्फ,जो, कफ़न की तरह सफ़ेद और,मौत की तरह ठंडी होती है।खेलती,…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

झुक नहीं सकते / अटल बिहारी वाजपेयी

झुक नहीं सकते / अटल बिहारी वाजपेयी टूट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते सत्य का संघर्ष सत्ता सेन्याय लड़ता निरंकुशता सेअंधेरे ने दी चुनौती हैकिरण अंतिम अस्त होती…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं / अटल बिहारी वाजपेयी

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं / अटल बिहारी वाजपेयी भारत जमीन का टुकड़ा नहीं,जीता जागता राष्ट्रपुरुष है।हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है,पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं।पूर्वी और पश्चिमी…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

आओ फिर से दिया जलाएँ / अटल बिहारी वाजपेयी

आओ फिर से दिया जलाएँ / अटल बिहारी वाजपेयी आओ फिर से दिया जलाएँभरी दुपहरी में अँधियारासूरज परछाई से हाराअंतरतम का नेह निचोड़ें-बुझी हुई बाती सुलगाएँ।आओ फिर से दिया जलाएँ…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

मौत से ठन गई / अटल बिहारी वाजपेयी

मौत से ठन गई / अटल बिहारी वाजपेयी ठन गई!मौत से ठन गई! जूझने का मेरा इरादा न था,मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था, रास्ता रोक कर वह खड़ी…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

दूध में दरार पड़ गई / अटल बिहारी वाजपेयी

दूध में दरार पड़ गई / अटल बिहारी वाजपेयी ख़ून क्यों सफ़ेद हो गया?भेद में अभेद खो गया।बँट गये शहीद, गीत कट गए,कलेजे में कटार दड़ गई।दूध में दरार पड़…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

कौरव कौन कौन पांडव / अटल बिहारी वाजपेयी

कौरव कौन कौन पांडव / अटल बिहारी वाजपेयी कौरव कौनकौन पांडव,टेढ़ा सवाल है|दोनों ओर शकुनिका फैलाकूटजाल है|धर्मराज ने छोड़ी नहींजुए की लत है|हर पंचायत मेंपांचालीअपमानित है|बिना कृष्ण केआजमहाभारत होना है,कोई…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

पंद्रह अगस्त की पुकार / अटल बिहारी वाजपेयी

पंद्रह अगस्त की पुकार / अटल बिहारी वाजपेयी पंद्रह अगस्त का दिन कहता:आज़ादी अभी अधूरी है।सपने सच होने बाकी है,रावी की शपथ न पूरी है॥ जिनकी लाशों पर पग धर…

0 Comments
atal bihari bajpeyi
अटल बिहारी वाजपेयी कविता Atal bihari vajpeyi poems

हरी हरी दूब पर / अटल बिहारी वाजपेयी

हरी हरी दूब पर / अटल बिहारी वाजपेयी हरी हरी दूब परओस की बूंदेअभी थी,अभी नहीं हैं|ऐसी खुशियाँजो हमेशा हमारा साथ देंकभी नहीं थी,कहीं नहीं हैं| क्काँयर की कोख सेफूटा…

0 Comments