Browsing Tag

#रामनाथ साहू ननकी

यहाँ पर हिन्दी कवि/ कवयित्री आदर0 रामनाथ साहू ननकी के हिंदी कविताओं का संकलन किया गया है . आप कविता बहार शब्दों का श्रृंगार हिंदी कविताओं का संग्रह में लेखक के रूप में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा किये हैं .

दोहा पंचक -रामनाथ साहू ननकी किन्नर खूब मचा रहे , रेलयान में लूट ।कैसी है ये मान्यता , दी है किसने छूट ।। जल थल नीले गगन पर ,, मानव का आतंक ।दोहन जो करता मिले , सागर को ही पंक ।। हिंसा हुई बढ़ोतरी ,…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy