KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर कविता

26 जनवरी गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस पर कविता

गणतंत्र दिवस पर कविता : गणतन्त्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है। इसी दिन सन् 1950 को भारत सरकार अधिनियम (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। 26 जनवरी गणतंत्र दिवस 26 January, Republic Day गणतंत्र पर दोहा वीरों के बलिदान से,मिला हमें…
Read More...

पंजाब धरा का सिंह शूर

पंजाब धरा का सिंह शूर विधा-पदपादाकुलक राधेश्यामी छंद पर आधारित गीत। पंजाब धरा का सिंह शूर, फाँसी पर हंसकर झूल गया।बस याद उसे निज वतन रहा,दुनियादारी सब भूल गया। माँ की गोदी का लाल अमर,था गौरव पितु के मस्तक का।उस आँगन देहरी द्वार गली,है नमन तीर्थ के दस्तक का। था सृष्टा का वह अमर दीप, जिस पर दिनमणि भी झूम गया। थी वन्दनीय शुभ बेला…
Read More...

उत्सव यह गणतंत्र का

उत्सव यह गणतंत्र का उत्सव यह गणतंत्र का , राष्ट्र मनाये आज ।जनमानस हर्षित सकल , खुशी भरे अंदाज ।।खुशी भरे अंदाज , गगनभेदी स्वर गाते ।भारत भूमि महान , प्रणामी भाव दिखाते ।।कह ननकी कवि तुच्छ , असंभव सारे संभव ।।लालकिले से गाँव , सभी पर होते उत्सव ।। उत्सव में उत्साह का , दिखता प्यारा रंग ।तन मन की संलग्नता , दुनिया होती दंग ।।दुनिया होती दंग ,…
Read More...

भारत गर्वित आज पर्व गणतंत्र हमारा

भारत गर्वित आज पर्व गणतंत्र हमारा धरा हरित नभ श्वेत, सूर्य केसरिया बाना।सज्जित शुभ परिवेश,लगे है सुभग सुहाना।।धरे तिरंगा वेश, प्रकृति सुख स्वर्ग लजाती।पावन भारत देश, सुखद संस्कृति जन भाती।। भारत गर्वित आज,पर्व गणतंत्र हमारा।फहरा ध्वज आकाश,तिरंगा सबसे प्यारा।।केसरिया है उच्च,त्याग की याद दिलाता।आजादी का मूल्य,सदा सबको समझाता।। सिर केसरिया…
Read More...

गणतंत्र गाथा

गणतंत्र गाथा पुरा कहानी,याद सभी को, मेरे देश जहाँन की।कहें सुने गणतंत्र सु गाथा, अपने देश महान की। सन सत्तावन की गाथाएँ,आजादी हित वीर नमन।रानी झाँसी नाना साहब, ताँत्या से रणधीर नमन। तब से आजादी तक देखो,युद्व रहा ये जारी था।वीर हमारे नित मरते थे, दर्द गुलामी भारी था। जलियाँवाला बाग बताता, नर संहार कहानी को।भगतसिंह की फाँसी कहती, इंकलाब…
Read More...

हिन्द देश के वीर

हिन्द देश के वीर 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳आजादी का पर्व ये, हर्षित सारा देश।छाई खुशियाँ हर तरफ, खिला-खिला परिवेश।।खिला - खिला परिवेश, गीत हर्षित हो गाए।मना रहे गणतंत्र, तिरंगा नभ लहराए।।थे सब वीर महान, जिन्होंने जान लगा दी।आया दिन ये खास, मिली हमको आजादी।।🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 भारतवासी एक सब, एक हमारा धर्म।जाति-पाति सब भूलकर, देशभक्ति है…
Read More...

आओ मिलकर गणतंत्र सफल बनाएँ

आओ मिलकर गणतंत्र सफल बनाएँ आओ जन-गण-मन को ऊपर उठाएँ,नित नवीन विचारों की शृंखला बनाएँ।हर चेहरे को फिर… वैसा ही महकाएँ,आओ मिलकर गणतंत्र सफल बनाएँ।।1।। त्याग-संयम-सहयोग सदा हो सहचरऐसी संस्कारित आदर्श पीढ़ी बनाएँ।सदा सामर्थ्य जो निज कांधों में बसाएँआओ! मिलकर गणराज भारत बनाएँ।।2।। प्राचीन राष्ट्रगौरव फिर अर्वाचीन करवाएँ,जीवन्त संस्कृति अब जग…
Read More...

गणतंत्र दिवस पर तीन मुक्तक

गणतंत्र दिवस पर तीन मुक्तक *1. गणतंत्र दिवस*26 जनवरी 1950 को लागू हुआ गणतंत्र सुशासन दिलाने।तिरंगा प्रतीक बना देश की आन बान शान को बचाने।संविधान बना हमको सामाजिक,आर्थिक,राजनीतिक न्याय,समाजवादी स्वतंत्रता प्रतिष्ठा व अवसर की समानता दिलाने। *2. तिरंगा*केसरिया,सफेद,हरा रंग का तिरंगा मान सम्मान हमारा है।राष्ट्र की एकता,अखंडता,संप्रभुता का…
Read More...

मेरे भारत देश है श्रेष्ठ गुणों की खान -मनोरमा चन्द्रा “रमा”

मेरे भारत देश है श्रेष्ठ गुणों की खान -मनोरमा चन्द्रा "रमा" मन में अभिलाषा भरी, सभी बने विद्वान। मेरे भारत देश है, श्रेष्ठ गुणों की खान।। शांति नाद गूँजे सदा, सबका हो अरमान। सत्य, अहिंसा मार्ग चल, वही श्रेष्ठतम जान।।रंग भेद को तज चलें, रखें मनुज समभाव। श्रेष्ठ कर्म नित कर…
Read More...

जब तक तन में प्रान

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस 15 August Independence Day करो लोकहित तुम मनुज जब तक तन में प्रान देश सदा उन्नति करे ,मन में लेना ठान ।करो लोकहित तुम मनुज ,जब तक तन में प्रान ।। है स्वतंत्र यह देश है ,बनो नहीं अंजान ।निर्भर होना छोड़ तू,इसकी बन पहचान ।। जाति-पाति के भेद से ,रहो सदा ही दूर ।एक देश के लाल हो ,होना मत मजबूर ।। देश तिरंगा नित…
Read More...