KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

इस रचना में समाज में व्याप्त कुरीतियों पर कटाक्ष किया गया है |
वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

0 57

वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है
टीचर आज का टयूटर हो गया है

जनता का रक्षक, भक्षक हो गया है
वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है

मानव आज का, दानव हो गया है
सुविचार, कुविचार में परिवर्तित हो गया है

गार्डन अब युवाओं के दिल गार्डन – गार्डन करने लगे हैं
चौराहे – तिराहे लवर पॉइंट बनने लगे हैं

आज का शिक्षक, शिष्या पर लट्टू हो गया है
गुरु – चेले का रिश्ता भ्रामक हो गया है

स्त्रियों की संख्या, पुरुषों से कमतर हो गयी है
सभ्यता लुप्त प्रायः सी हो गयी है

समाज का पतन, देश का पतन हो गया है
चरित्र का पतन, आस्था का पतन हो गया है

लुंगी को छोड़, जीन्स का चलन हो गया है
कपड़े छोटे हो गए हैं तन का दिखावा शुरू हो गया है

लडकियां, लड़कों सी दिखने लगी हैं लड़के, लड़कियों से दिखने लगे हैं
चारों ओर ब्यूटी पार्लर का चलन हो गया है

वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है
वर्तमान किस तरह परिवर्तित हो गया है

Leave A Reply

Your email address will not be published.