KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@अगहन शुक्ल मोक्षदा एकादशी गीता जयंती पर कविता

अगहन शुक्ल मोक्षदा एकादशी गीता जयंती

गीता जयंती प्रत्‍येक वर्ष मार्गशीर्ष मास के शुक्‍लपक्ष की एकादशी को मनाई जाती है। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहते हैं जो उत्पन्ना एकादशी के बाद आती है।

गीता सार पर कविता

गीता सार पर कविता नाहक तू शोक मनाय , डरता तू अकारन।आत्मा अजर अमर बंधु, कौन सकता मारन? जो होता अच्छा होता, मत कर तू संताप।खोखला कर दे मनुवा ,भूत का पश्चाताप।। क्या खो दिया जो लाया, किस बात की विलाप।यही लेकर दिया तुने, कर भगवन का जाप ।। मुट्ठी बंद कर आया तू, जाना खाली हाथ ।आज तुम्हारे…
Read More...

गीता एक जीवन धर्म

गीता एक जीवन धर्म गीता महज ग्रंथ नहीं, है यह जीवन धर्म ।अमल कर उपदेश को,जान ले ज्ञान मर्म।गीता से मिलती , जीने का नजरिया।सुखमय बनाती जो अपनी दिनचर्या।ज्ञान झलके व्यवहार में।सहारा बने मझधार में ।कहती गीता, फल मिलेगी , कर लो निस्वार्थ कर्म।गीता महज ग्रंथ नहीं……. मनीभाई नवरत्न
Read More...