चैत्र कृष्ण एकम होली, धुलेंड़ी, वसंतोत्सव

हिंदी गीत : गुलाल की बौछार है…होली का त्यौहार

गुलाल की बौछार है...होली का त्यौहार। बंसत का श्रृंगार है.....होली का त्यौहार। रिश्तों में हैं मिठास,और प्यार की फुहार। अच्छाई की जीत और बुराई की है हार । पिचकारी की…

0 Comments

होली के रंग है हजार

होली के रंग है हजार,खिल जाये होठों में बहार।यारा मेरे दिलदार,तुझ संग मिला मुझे प्यार॥ये हमारी मस्तानी टोली,मीठी बोली,सूरतिया भोली।लोगों को मिलाये ऐसी होली,पानी ने रंग को जैसे घोली।होली के…

0 Comments

होली तो बहाना है

पिया से मिलने जाना है। ओ....हो..हो....पिया से मिलने जाना है। होली तो...बहाना है। सबसे हसीन... सबसे जुदाउससे  रिश्ता ...बनाना है। पिया से मिलने जाना है...हाथों में तेरे....चुड़िया छन छन बजे।पैरों…

0 Comments

होली होनी थी हुई

?????????? ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . ?‍♀ *होली होनी थी हुई* ?‍♀ . *दोहा छद* . ?१ ? कड़वी सच्चाई कहूँ, कर लेना स्वीकार। फाग राग ढप चंग बिन, होली है बेकार।। .…

0 Comments
होली-अशोक दीप
kundaliyan

होली-अशोक दीप

होली-अशोक दीप होली छटा निहारिए, बरस रहा मधु रंग ।मंदिर-मस्जिद प्रेम से, खेल रहे मिल संग ।।खेल रहे मिल संग, धर्म की भींत ढही है ।अंतस्तल में आज, प्रीत की…

0 Comments

“कोरोना “होली झन मनाहु,,, पदमा साहू

दाई,दीदी,नोनी सब, भईया बाबु, संगवारी सुनहु! सुग्घर होली खेलहु, "कोरोना"होली झन मनाहु,!! गोबर छेना के होलिका झारी, पिंयरचाउर कपूर चढ़ाहु! सुग्घर होली खेलहु, "कोरोना"होली झन मनाहु!! चीनी रंग,पिचकारी छोड़, परसा…

0 Comments

होली चालीसा

????????? ~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . . *होली चालीसा* . ??? दोहा-- याद करें प्रल्हाद को,भले भलाई प्रीत। तजें बुराई मानवी, यही होलिका रीत।। चौपाई-- हे शिव सुत गौरी के नंदन। करूँ आपका…

2 Comments

होली के बहाने ओ मोहना

होली होली के बहाने  ओ मोहना रंग  लगाने की कोशिश न करना ।बड़ा छलिया है तू ओ रंग रसिया ।दिल चुराने की कोशिश न करना ।बहुत  भोले भाले  बनते  कान्हा…

0 Comments

आया होली का त्यौहार

"होली"आया होली का त्यौहार,          लेके रंग अबीर-गुलाल।आओ मिलके खुशी मनाएँ,            चलो तिलक लगाएँ भाल।जाति-पाँति और वर्ग-भेद का,            तोड़ो क्लेश भरा जंजाल।मानव ने ही रचा-बसा है,           ये…

0 Comments

होली के रंग

होली के रंग (3 मनहरण में)(1)होली की मची है धूम, रहे होलियार झूम,मस्त है मलंग जैसे, डफली बजात है।हाथ उठा आँख मींच, जोगिया की तान खींच,मुख से अजीब कोई, स्वाँग…

0 Comments