$सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ (7 मार्च, 1911 – 4 अप्रैल, 1987) को कवि, शैलीकार, कथा-साहित्य को एक महत्त्वपूर्ण मोड़ देने वाले कथाकार, ललित-निबन्धकार, सम्पादक और अध्यापक के रूप में जाना जाता है। इनका जन्म 7 मार्च 1911 को उत्तर प्रदेश के कसया, पुरातत्व-खुदाई शिविर में हुआ। बचपन लखनऊ, कश्मीर, बिहार और मद्रास में बीता। बी.एससी. करके अंग्रेजी में एम.ए. करते समय क्रांतिकारी आन्दोलन से जुड़कर बम बनाते हुए पकड़े गये और वहाँ से फरार भी हो गए। सन्1930 ई. के अन्त में पकड़ लिये गये। अज्ञेय प्रयोगवाद एवं नई कविता को साहित्य जगत में प्रतिष्ठित करने वाले कवि हैं। अनेक जापानी हाइकु कविताओं को अज्ञेय ने अनूदित किया। बहुआयामी व्यक्तित्व के एकान्तमुखी प्रखर कवि होने के साथ-साथ वे एक अच्छे फोटोग्राफर और सत्यान्वेषी पर्यटक भी थे।

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

असाध्य वीणा – अज्ञेय की कविता

असाध्य वीणा अज्ञेय जी की एक लम्बी कविता है। इस कविता की रचना उन्होंने सनˎ1957-58 के जापान प्रवास के बाद 18-20 जून 1961 में अल्मोड़ा के कॉटेज में 321 पंक्ति वाली यह लंबी कविता लिखी थी। यह कविता उनके काव्य संग्रह ‘आँगन के पार द्वार’ में संकलित है, जो 1961 में ही प्रकाशित हुआ था। …

असाध्य वीणा – अज्ञेय की कविता Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

जो कहा नही गया / अज्ञेय

जो कहा नही गया / अज्ञेय है,अभी कुछ जो कहा नहीं गया । उठी एक किरण, धायी, क्षितिज को नाप गई,सुख की स्मिति कसक भरी,निर्धन की नैन-कोरों में काँप गई,बच्चे ने किलक भरी, माँ की वह नस-नस में व्याप गई।अधूरी हो पर सहज थी अनुभूति :मेरी लाज मुझे साज बन ढाँप गई-फिर मुझ बेसबरे से रहा …

जो कहा नही गया / अज्ञेय Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

मैंने आहुति बन कर देखा / अज्ञेय

मैंने आहुति बन कर देखा / अज्ञेय मैं कब कहता हूँ जग मेरी दुर्धर गति के अनुकूल बने,मैं कब कहता हूँ जीवन-मरू नंदन-कानन का फूल बने ?काँटा कठोर है, तीखा है, उसमें उसकी मर्यादा है,मैं कब कहता हूँ वह घटकर प्रांतर का ओछा फूल बने ? मैं कब कहता हूँ मुझे युद्ध में कहीं न तीखी चोट …

मैंने आहुति बन कर देखा / अज्ञेय Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

उधार / अज्ञेय

उधार / अज्ञेय सवेरे उठा तो धूप खिल कर छा गई थीऔर एक चिड़िया अभी-अभी गा गई थी। मैनें धूप से कहा: मुझे थोड़ी गरमाई दोगी उधारचिड़िया से कहा: थोड़ी मिठास उधार दोगी?मैनें घास की पत्ती से पूछा: तनिक हरियाली दोगी—तिनके की नोक-भर?शंखपुष्पी से पूछा: उजास दोगी—किरण की ओक-भर?मैने हवा से मांगा: थोड़ा खुलापन—बस एक …

उधार / अज्ञेय Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

नंदा देवी / अज्ञेय

नंदा देवी / अज्ञेय नंदा,बीस-तीस-पचास वर्षों मेंतुम्हारी वनराजियों की लुगदी बनाकरहम उस परअखबार छाप चुके होंगेतुम्हारे सन्नाटे को चीर रहे होंगेहमारे धुँधुआते शक्तिमान ट्रक,तुम्हारे झरने-सोते सूख चुके होंगेऔर तुम्हारी नदियाँला सकेंगी केवल शस्य-भक्षी बाढ़ेंया आँतों को उमेठने वाली बीमारियाँतुम्हारा आकाश हो चुका होगाहमारे अतिस्वन विमानों केधूम-सूत्रों का गुंझर।नंदा,जल्दी ही-बीस-तीस-पचास बरसों मेंहम तुम्हारे नीचे एक मरु …

नंदा देवी / अज्ञेय Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

धूल-भरा दिन / अज्ञेय

धूल-भरा दिन / अज्ञेय पृथ्वी तो पीडि़त थी कब से आज न जाने नभ क्यों रूठा,पीलेपन में लुटा, पिटा-सा मधु-सपना लगता है झूठा!मारुत में उद्देश्य नहीं है धूल छानता वह आता है,हरियाली के प्यासे जग पर शिथिल पांडु-पट छा जाता है। पर यह धूली, मन्त्र-स्पर्श से मेरे अंग-अंग को छू करकौन सँदेसा कह जाती है …

धूल-भरा दिन / अज्ञेय Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

कलगी बाजरे की / अज्ञेय

कलगी बाजरे की / अज्ञेय हरी बिछली घास।दोलती कलगी छरहरे बाजरे की। अगर मैं तुम को ललाती सांझ के नभ की अकेली तारिकाअब नहीं कहता,या शरद के भोर की नीहार – न्हायी कुंई,टटकी कली चम्पे की, वगैरह, तोनहीं कारण कि मेरा हृदय उथला या कि सूना हैया कि मेरा प्यार मैला है। बल्कि केवल यही : ये उपमान …

कलगी बाजरे की / अज्ञेय Read More »

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय Agyey ki Kavita

यह दीप अकेला / अज्ञेय

यह दीप अकेला / अज्ञेय यह दीप अकेला स्नेह भराहै गर्व भरा मदमाता परइसको भी पंक्ति को दे दो यह जन है : गाता गीत जिन्हें फिर और कौन गायेगापनडुब्बा : ये मोती सच्चे फिर कौन कृति लायेगा?यह समिधा : ऐसी आग हठीला बिरला सुलगायेगायह अद्वितीय : यह मेरा : यह मैं स्वयं विसर्जित : यह दीप अकेला स्नेह भराहै गर्व …

यह दीप अकेला / अज्ञेय Read More »

You cannot copy content of this page