यहाँ पर हिन्दी कवि/ कवयित्री आदर ०प्रदीप कुमार दाश दीपक के हिंदी कविताओं का संकलन किया गया है . आप कविता बहार शब्दों का श्रृंगार हिंदी कविताओं का संग्रह में लेखक के रूप में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा किये हैं .

hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा

चोका कैसे लिखें (How to write Choka )

चोका कैसे लिखें hindi choka || हिंदी चोका शिल्प की दृष्टि से चोका की पंक्तियों में क्रमशः 5 और 7 वर्णों की आवृत्ति होती है तथा अंतिम पाँच पंक्तियों में…

0 Comments
hindi haiku || हिंदी हाइकु
hindi haiku || हिंदी हाइकु

हाइकु कैसे लिखें (How to write haiku)

हाइकु कैसे लिखें hindi haiku || हिंदी हाइकु "हाइकु" एक ऐसी सम्पूर्ण लघु कविता है जो पाठक के मर्म या मस्तिष्क को तीक्ष्णता से स्पर्श करते हुए झकझोरने की सामर्थ्य…

0 Comments
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा

दोहा छंद विधान व प्रकार

दोहा छंद विधान व प्रकार - प्रदीप कुमार दाश "दीपक" "दोहा" अर्द्धसम मात्रिक छंद है । इसके चार चरण होते हैं। विषम चरण (प्रथम तथा तृतीय) में १३-१३ मात्राएँ और…

1 Comment
hindi tanka || हिंदी तांका
hindi tanka || हिंदी तांका

ताँका कैसे लिखें

ताँका जापानी काव्य की कई सौ साल पुरानी काव्य विधा है। इस विधा को नौवीं शताब्दी से बारहवीं शताब्दी के दौरान काफी प्रसिद्धि मिली। उस समय इसके विषय धार्मिक या दरबारी हुआ करते थे। हाइकु का उद्भव इसी से हुआ।

0 Comments
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा

सेदोका कैसे लिखें (How to write SEDOKA)

सेदोका कैसे लिखें (How to write SEDOKA) hindi sedoka || हिंदी सेदोका सेदोका रचना विधानसेदोका 05/07/07 - 05/07/07 वर्णक्रम की षट्पदी - छः चरणीय एक प्राचीन जापानी काव्य विधा है…

0 Comments

तीन ताँका – प्रदीप कुमार दाश

तीन ताँका नेकी की राहछोड़ते नहीं पेड़खाये पत्थरपर देते ही रहेफल देर सबेर । जेब में छेदपहुँचाता है खेदसिक्के से ज्यादागिरते यहाँ रिश्तेअचरज ये भेद । डूबा सूरजडूबते वक्त दिखारक्तिम…

0 Comments
HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

शीत ऋतु पर ताँका

शीत ऋतु पर ताँका HINDI KAVITA || हिंदी कविता {01}ऋतु हेमंत नहला गई ओसधरा का मनतन बदन गीलेहाड़ों में ठिठुरन । {02}लाए हेमंत दांतों में किटकिटहाड़ों में कंपसर्द सजी सुबह कोहरा भरी…

0 Comments