12 महीनों पर कविता (बारहमासा कविता)

12 महीनों पर कविता : भारतीय कालगणना में एक वर्ष में 12 मास होते हैं। महीनों पर कविता को बारहमासा कविता कहते हैं . एक वर्ष के बारह मासों के नाम ये हैं-

kavita bahar banner

चैत्र नक्षत्र चित्रा में पूर्णिमा होने के कारण, वैशाख विशाखा में होने के,ज्येष्ठ ज्येष्ठा में, आषाढ पूर्वाषाढ़ में, श्रावण श्रवणा में, भाद्रपद पूर्वभाद्रपद में, आश्विन अश्विनी में, कार्तिक कृतिका में, अग्रहायण या मार्गशीर्ष मृगशिरा में, पौष पुष्य में, माघ मघा में, फाल्गुन उत्तराफाल्गुनी में होने के वजह इनका नाम पड़ा है.

12 महीनों पर कविता

प्रथम महीना चैत से गिन
राम जनम का जिसमें दिन।।

द्वितीय माह आया वैशाख।
वैसाखी पंचनद की साख।।

ज्येष्ठ मास को जान तीसरा।
अब तो जाड़ा सबको बिसरा।।

चौथा मास आया आषाढ़।
नदियों में आती है बाढ़।।

पांचवें सावन घेरे बदरी।
झूला झूलो गाओ कजरी।।

भादौ मास को जानो छठा।
कृष्ण जन्म की सुन्दर छटा।।

मास सातवां लगा कुंआर।
दुर्गा पूजा की आई बहार।।

कार्तिक मास आठवां आए।
दीवाली के दीप जलाए।।

नवां महीना आया अगहन।
सीता बनीं राम की दुल्हन।।

पूस मास है क्रम में दस।
पीओ सब गन्ने का रस।।

ग्यारहवां मास माघ को गाओ।
समरसता का भाव जगाओ।।

मास बारहवां फाल्गुन आया।
साथ में होली के रंग लाया।।

बारह मास हुए अब पूरे।
छोड़ो न कोई काम अधूरे।।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.