रामनवमी पर दोहे / सुधा शर्मा

रामनवमी का त्यौहार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है जो अप्रैल-मई में आता है। हिंदू धर्मशास्त्रों के अनुसार इस दिन मर्यादा-पुरूषोत्तम भगवान श्री राम जी का जन्म हुआ था।

रामनवमी पर दोहे / सुधा शर्मा

shri ram hindi poem.j

जनम लिए रघुनाथ हैं,हर्षित जन मन आज।
आए जग भरतार हैं,रघुकुल के सरताज।।

चैत्र शुक्ल तिथी नवम,शुभ दिन शुभ कर नाम।
राजा दशरथ प्राण प्रिय,जनमे रघुवर राम।।

राम लखन भरत शत्रुघ्न,ये सब भाई चार।
रघुकुल भूषण हें बनें,वीर धीर आचार।।

राम नाम ही सार है,सबके प्राणा धार।
राम रटन जो कर लिया,उसका बेड़ा पार।।

जीवन पानी मोल है,राम नाम रस घोल।
भरते बूँद विराट सम,राम राम बस बोल।।

राम रमा संसार है,रामा पालन हार।
रूप यही त्रिदेव के, रचते हैं संसार।।

आओ अब हे जगत पति,लेकर नव अवतार।
बढ़ता जग में पाप है,करो दुष्ट संहार।।

सुधा शर्मा
राजिम छत्तीसगढ़

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.