2 अक्टूबर महात्मा गांधी का जन्मदिन, अहिंसा का अंतर्राष्ट्रीय दिवस

बापू ने ये राह दिखाई

2 अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिन के अवसर पर समर्पित कविता। यह कविता अन्तराष्ट्रीय अहिंसा दिवस का उत्सव गान भी करती है।

टिप्पणी बन्द बापू ने ये राह दिखाई में

महात्मा गाँधी पर दोहे

महात्मा गाँधी पर दोहे ★★★★★★★★★★★★★★★★ सत्य धरम की राह पर,चलकर हुए महान। भारत आज स्वतंत्र है,पा जिनका अवदान।। परम अहिंसा धर्म का,बनकर नित ही भक्त। राग द्वेष छल दंभ का…

टिप्पणी बन्द महात्मा गाँधी पर दोहे में

गांधी जी के सपनों का भारत

गांधी जी के सपनों का भारत गांधीजी के सपनों का है ये भारत, उन्नत होकर विकसित होता ये भारत। ग्रामीण परिवेश में जागरूकता बढ़ाया, स्वदेशी अपनाकर अभियान चलाया।। आर्थिक सामाजिक…

0 Comments

बापू दोहा मुक्तक

???????????????????? ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . ? *दोहा मुक्तक* ? . ? *बापू* ? . ?? भारत ने थी ली पहन, गुलामियत जंजीर। थी अंग्रेज़ी क्रूरता, मरे वतन के वीर। हाल हुए बेहाल…

0 Comments

नायक श्री गांधी की जय

      स्वतंत्रता  के   वीर   सिपाही,नायक  श्री  गांधी  की  जय।अनुकरणीय  कृत्य उन्नायक,जय-जय गांधी,भव्य विजय।पूज्य   प्रेरणास्रोत  महात्मा,तुम्हें  याद   हम    करते  हैं।दिव्य-मार्ग  दे दिया निराला,चलकर   पार    उतरते   हैं।सुदृढ़ जिन्दगी जीकर तुमने,स्वर्णिम   राह   …

0 Comments

गांधी छाप

कविता -गांधी छापआज गांधी का सिद्धांत नहीं गांधी छाप चलता है।सत्य को जंक लग गया, हर तरफ पाप चलता है।।हिंसा भरे बाजार हो रहा अस्तेय चुपचाप चलता हैआज गांधी का…

0 Comments

गाँधी

गाँधी.....................................................................जाने कितने कष्ट उठाकर गाँधी तुमने नाम कमाया ।एक छड़ी के बल पर तूने भारत को आजाद कराया ।।गाँधी तुम तो सदा रहे थे तन अरु मन दोनों से सच्चे…

0 Comments

नमन आपको बापू

नमन  आपको बापू,  नमन हैैं बारम्बार।सविनय अवज्ञा आंदोलन चलाया,  अत्याचार के आप प्रतिकार।।खादी को किया था आपने प्यार, स्वदेशी अपनाया।सत्य, अहिंसा के हथियार से गौरों को खूब छकाया।।आजादी के परवाने…

0 Comments

गांधी सा

गांधी सा----------------------माँ ओ माँमुझको समझाओनाजीवन का फलसफाकोई कहता जैसे को तैसाकोई कहता बन गांधी सामेरी समझ में आता नहींक्या ग़लत?क्या सही?लल्ला ओ लल्लाजैसे को तैसा मैं कहती नहीं है गलतपर…

0 Comments

गाँधी जी

*गाँधी जी*साबरमती के संत तुझे, लाख बार प्रणाम हैअहिंसा के पुजारी तुझे,लाख बार प्रणाम हैस्वतन्त्रा की राह हो या, सत्यता की राह होहर राह में तेरे अटल, विचारों को प्रणाम…

0 Comments