भारत राष्ट्रपिता कहलाये धन्य

भारत राष्ट्रपिता कहलाये धन्य

सादा जीवन उच्च विचार अपनाये मानवतावादी।
भारत राष्ट्रपिता कहलाये धन्य महात्मा गाँधी।

२ अक्टुबर सन् १८६९ समय रहा सुखदाई।
गुजरात के पोरबन्दर में जन्म आपने पाई।
पिता कर्मचन्द्र गाँधी थे माता पुतली बाई।
मोहनदास कर्मचन्द्रगाँधी पुरा नाम कहलाई।

जीवन साथी डोर कस्तुरबा गाँधी के संग बांधी।
भारत राष्ट्रपिता कहलाये धन्य महात्मा गाँधी।

सत्यअहिंसा पाठ पढा़कर जन मन सुखी बनाये।
मानवता का व्रत धारण कर महात्मा कहलाये।
सत्याग्रह कर आजादी हेतु सबसे आगे आये।
क्षमा दया त्याग प्रेम से आप चहुँ दिशि छाये।

चरखा चलाये सुत काते अपनाये खुद खादी।
भारत रह राष्ट्रपिता कहलाये धन्य महात्मा गाँधी।

सत्य अहिंसा सर्वोपरि है सबको दिखला दी।
नरम दल बनकर दहशत अंग्रेजों में फैला दी।
बिना शस्त्र उठाये ले ली ब्रिटीश से आजादी।
शान्ति क्षमा सदभाव से रोके भारत की बर्बादी।

स्वावलम्बि बनकर महात्मा दिव्य साधना साधी।
भारत राष्ट्रपिता कहलाये धन्य महात्मा गाँधी।

३०जनवरी सन्१९४८को यमराज फांस ले आया।
नाथूराम गोडसे सीना पर तीन गोली चलाया।
राम कह उडे़ प्राण पखेरु बंची जमीन पर काया।
चले गये स्वर्गवास जग मेंआपका यश गुण छाया।

भारतवर्ष में”बाबूराम कवि”आई दुख की आंधी।
भारत राष्ट्रपिता कहलाये धन्य महात्मा गाँधी।

बाबूराम सिंह कवि
बड़का खुटहाँ , विजयीपुर
गोपालगंज (बिहार )८४१५०८

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.