KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@भाद्रपद शुक्ल श्रीगणेश चतुर्थी पर हिंदी कविता

भाद्रपद शुक्ल श्रीगणेश चतुर्थी : गणेश चतुर्थी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह त्योहार भारत के विभिन्न भागों में मनाया जाता है किन्तु महाराष्ट्र में बडी़ धूमधाम से मनाया जाता है। पुराणों के अनुसार इसी दिन गणेश का जन्म हुआ था।गणेश चतुर्थी पर हिन्दू भगवान गणेशजी की पूजा की जाती है। कई प्रमुख जगहों पर भगवान गणेश की बड़ी प्रतिमा स्थापित की जाती है। इस प्रतिमा का नौ दिनों तक पूजन किया जाता है। बड़ी संख्या में आस पास के लोग दर्शन करने पहुँचते है। नौ दिन बाद गानों और बाजों के साथ गणेश प्रतिमा को किसी तालाब इत्यादि जल में विसर्जित किया जाता है।

जय गणपति जय पार्वती सुत- गणेश स्तुति

जय गणपति, जय पार्वती सुत, गजमुख वंदन, अभिनंदन | शिव के नंदन, गणनायक, एकदंत, मस्तक चंदन | जय गणपति, जय पार्वती सुत गजमुख वंदन, अभिनंदन | भूपति, भुवनपति, प्रथमेश्वर वरदविनायक, बुद्धिप्रिय, बुद्धिविधाता, सिद्धिदाता विघ्नेश्वर तुम, सिद्धिप्रिय | सकल जगत में गूँज रहा है, आपका ही महिमा मंडन | जय गणपति, जय पार्वती सुत …
Read More...

श्रीगणेश करते कृपा

श्रीगणेश करते कृपा देते भक्ति नवीन ====================शंकर सुवन कहे गये , हुए भवानी नन्द।भ्राता भी अति श्रेष्ठ हैं, जिनके प्रभु स्कन्ध।।भूमि-भवन-धन के लिए, जातक करे पुकार। पान-फूल-लड्डू लिए, खड़े करें मनुहार।। आर्त्त भाव से जो करे, विनय भक्त अति…
Read More...

गणेश वंदना

गणेश वंदना भाद्रपद शुक्ल श्रीगणेश चतुर्थी Bhadrapad Shukla Shriganesh Chaturthi प्रथम वंदना आपकी ,गणनायक भगवान।शील बुद्धि का ज्ञान दो,मिलें जगत गुणगान।। बुद्धि प्रदाता आप प्रभु, है गणेश जग नाम।मात पिता के साथ ही, होता है सुख धाम।। प्रथम निमंत्रण आपको, गणनायक भगवान।काम सिद्ध कर…
Read More...

सिद्धिविनायक गणेश वंदना

सिद्धिविनायक गणेश वंदना सिद्धिविनायक देव हो,तुझे मनाऊँ आज।माँ गौरी शंकर सुवन,हो पूरण मम काज।। प्रथम पुज्य गणराज जी, बुद्धि विधाता नाथ।कष्ट हरो गणनायका,चरण झुकाऊँ माथ।। मातु पिता करि परिक्रमा,सजते देव प्रधान।बुद्धि विनायक हैं कहे,कृपा करो भगवान ।। गणेशजी मोदक प्रिय गौरी तनय,एक दंत अखिलेश।हाथ जोड़ विनती करूँ, करो दया करुनेश।। …
Read More...

हरिपदी छंद में गणेश वंदन

विधान- 26 मात्रा प्रति चरण , चार चरण दो-दो सम तुकांत हो, 16-26 वीं मात्रा पर यति, चरणांत- गुरु गुरु 22 भाद्रपद शुक्ल श्रीगणेश चतुर्थी Bhadrapad Shukla Shriganesh Chaturthi हरिपदी छंद गणेश  वंदन प्रथम नमन हे गणपति देवा, तुम सबसे प्यारे।सकल सँवारो काज गजानन, हे देव हमारे।शिव प्रियप्रथम पूज्य हे प्रभुजी,गौरी के जाए।एकदन्त…
Read More...

उत्सव की घड़ियाँ-मधुसिंघी

उत्सव की घड़ियाँ घड़ियाँ सुख की आज आई ,गणपति लाये उत्सव ।मन से मन को जोड़ने का, करना है हमको जतन।घड़ियाँ सुख की आज आई। 1)विपदा कोई भी आ जाये,विघ्नहर्ता कर देते अंत।सच्चे दिल से नाम ले लो ,कट जायेंगे पाप अनंत ।घड़ियाँ सुख की आज आई। 2)अभिलाषा कोई भी मन की,पूर्ण करते ये तुरंत।कृपादृष्टि हम पर होगी 2, तिर जायेंगे भव अनंत।घड़ियाँ सुख की आज आई। …
Read More...

गणपति अराधना- कवयित्री क्रान्ति

गणपति अराधना विघ्नहारी मंगलकारीगणपति लीला अनेक-2 सज रहे हैं मंडप प्रभुबज रहे हैं देखो तालझूम रहे हैं भक्त तुम्हारेप्रभु कर उनका उद्धारविघ्नहारी................गणपति..............2 गणेशजी हर घर में तेरी छवि प्रभुतू ही सबका तारण हारदुखियों की झोली भर देप्रभु कर इतना उपकारविघ्नहारी.................गणपति.................2 जल रहे हैं…
Read More...