HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

हरे यादों के पन्ने-सुकमोती चौहान “रुचि”

हरे यादों के पन्ने किया याद है कौन , हिचकियाँ मुझको आई ।गुजरे अरसे बाद , कसक हिचकोले खाई ।जिल्द पुराने झाड़ , हरे यादों के पन्ने ।अधर खिला मुस्कान…

0 Comments