बसंत ऋतु / राजकुमार मसखरे

राजा बसंत / राजकुमार मसखरे

बसंत ऋतु
बसंत ऋतु


आ…जा आ…जाओ,हे ! ऋतुराज बसन्त,
अभिनंदन करते हैं तेरा, अनन्त अनन्त !

मचलते,इतराते,बड़ी खूबसूरत हो आगाज़,
आओ जलवा बिखेरो,मेरे मितवा,हमराज़ !

देखो अब ये सर्दियाँ, ठिठुरन तो जाने लगी,
यह सुहाना मौसम, सभी को है भाने लगी !

पेड़- पौधों में नव- नव कोपलें आने को हैं,
अमियाँ में तो बौर ही बौर ,लद जाने को हैं !

खेतों में सरसों के फूल, झूमें हैं पीले-पीले,
अब राग-रंग का उत्सव,जो हैं खिले-खिले !

इसीलिए सभी ऋतुओं का जी राजा है तू,
ये अजब-गज़ब फ़िज़ाओं को साजा है तू !

सङ्ग-सङ्ग,होली-धुलेड़ी,उत्सव ‘रंग पंचमी’
नवरात्रि, रामनवमी से, सजी है यह जमीं !

पलास की लाली,सवंत्सर,हनुमान जयंती,
वो गुरु पूर्णिमा का पर्व ख़ूब है जो मनती !

संगीत में है राग,,,जी विशेष बसंत बहार ,
साहित्य में काली दास ने रचा ‘ऋतुसंहार’,

बसन्त ने मोह लिया ‘निराला’ को निराला,
कवि ‘देव’ नंदन,पंत,टैगोर ने लिख डाला !

बसंत ऋतु प्रकृति का,यह अनुपम रूप है,
महके ये कली-कली,कानन खिली धूप है !

कोयल,मोर,पपीहे व भौरें छेड़े नये तराने,
बसंत के ये रंग में सब,आतुर है रंग जाने !

हे ऋतुओं के राजा,तेरी अलग ही शान है,
‘मसखरे’ को अपना ले ,तू तो मेरी जान है !

हे बसंत ! सङ्ग में बसंती को भी लाना है,
चैतू,बैसाखू,जेठू को भी अपना बनाना है !

— राजकुमार ‘मसखरे’
मु.-भदेरा ( पैलीमेटा /गंडई )
जि.- के.सी.जी.,( 36-गढ़

You might also like

Comments are closed.