मनीभाई की भावनाएं

मनीभाई की भावनाएं


●●●●●●●●●●●●
हर जगह चुनौतियाँ हैं, क्यूँ ना चुनौतियों से वास्ता करें।
ये तो गलत है कि खानाबदोश की तरह हम रास्ता करें।
विरोध करें ,कभी विरोध सहें; ये सांसारिक नियति है ।
मतभेद होने से रूठके चले जाना ,नहीं कवि प्रकृति है।

मनीभाई

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.