भाद्रपद कृष्ण श्रीकृष्ण जन्माष्टमी

मत्तगयन्द सवैया-आकर देख जरा अब हालत-गीता द्विवेदी

मत्तगयन्द सवैया-आकर देख जरा अब हालत --------------------- (1) आकर देख जरा अब हालत मैं दुखिया बन बाट निहारी। श्यामल रूप रिझा मन मीत बना कर लो रख हे गिरधारी। काजल…

टिप्पणी बन्द मत्तगयन्द सवैया-आकर देख जरा अब हालत-गीता द्विवेदी में

राधा पुकारे तोहे श्याम – केवरा यदु मीरा की भजन

जिसका प्रकार भक्तिकाल में मीरा अपने श्रीकृष्ण के भक्ति में रंग गई थी, वैसे ही आज राजिम की कवयित्री केवरा यदु मीरा अपने श्याम के रंग में रंगकर अपना भजन लिखी जा रही है. उनके भजन संग्रह में से

0 Comments

सुन कान्हा मेरी याद तुमको आती तो होगी- केवरा यदु मीरा के भजन

केवरा यदु मीरा के भजन सुन कान्हा मेरी याद तुमको आती तो होगी।ओ पूनम की रात तुम्हें रुलाती तो होगी ।सुन कान्हा-----तान छेड़ बंशी की तुम मुझे बुलाये थे।बाहों में…

0 Comments

श्री कृष्ण स्तुति

?✍️सीता - छंद ✍️?        परिचय - पंचदशाक्षरावृत्ति गण-विन्यास--र त म य र SIS SSI SSS ISS SIS        (श्री कृष्ण - स्तुति) -------------------------------------------------- साँवरे श्रीकृष्ण…

0 Comments

राधा और मीरा

*_आखिर माताएं राधा और मीरा क्यों नहीं चाहती?_* एक विचार प्रस्तुत किया गया कि "हर माँ चाहती है कि उनका बेटा कृष्ण तो बने मगर कोई माँ यह नहीं चाहती…

0 Comments

तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा-केवरा यदु “मीरा “

?तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा ? तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा कृष्णा कृष्णा हो कान्हा । आओ कन्हाई आओ कन्हाई तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा---- कान्हा तूने राधा से प्रीत…

0 Comments

कवयित्री केवरा यदु “मीरा ” की श्रीकृष्ण के प्रति राधाभक्ति अपने गीत में, जरूर पढ़िये….. (Radha pukare tohe)

?राधा पुकारे तोहे ? राधा पुकारे  तोहे  श्याम  हाथ जोड़  कर।आ जाओ  मोहन  प्यारे  मथुरा  को छोड़  कर।।आ जाओ  मोहन  प्यारे मथुरा को छोड़ कर ।रूठ गई निंदिया  श्याम  ,…

0 Comments

गोवर्धन पूजा पर रचित प्रवीण त्रिपाठी जी सुंदर रचना आप जरूर पढ़िये

*नटवर नागर प्यारे कान्हा, गोवर्धन कर धरते हो।**इंद्र देव का माधव मोहन, सर्व दर्प तुम हरते हो।**ब्रज मंडल के सब नर-नारी, इंद्र पूजते सदियों से।**लीलाधारी कृष्ण चन्द्र को, कभी न…

0 Comments

श्रीकृष्ण चालीसा-बाबूलाल बौहरा शर्मा द्वारा रचित(SHRIKRISHNA CHALISA)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar *श्रीकृष्ण चालीसा* दोहागुरु चरणों  में  है नमन, वंदन  श्री  भगवान।शारद माँ रखना कृपा, करूँ कृष्ण गुणगान।।चौपाई कृष्ण  अष्टमी    भादौ  मासे।प्राकृत  जीव  वन्य मनु हासे।।जन्मत  मिटे मात पितु बंधन।प्रकटे  निशा …

0 Comments