तितली पर बाल कविता

तितली पर बाल कविता

नीली पीली काली तितली।
सुंदर पंखों वाली तितली।।

आए-जाए फूलों पर ये,
घूमे डाली-डाली तितली।।

कुदरत ने कितने रंग भरे,
लाड-चाव से पाली तितली।।

फूल-फूल पर आती जाती,
रहती है कब खाली तितली।।

सब को खुशियां देने वाली,
ऐसी है मतवाली तितली।।

छूने से ये डर जाती है,
नाजो-नखरे वाली तितली।

-विनोद सिल्ला

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.