खुशबु-विनोद सिल्ला

खुशबु

फूलों में
होती है खुशबु
नहीं होती फूलों में ही
होती है
कुछ व्यक्तियों के
व्यवहार में भी
होती है
कुछ व्यक्तियों के
किरदार में भी
होती है
कुछ व्यक्तियों के
स्वभाव में भी
होती है
कुछ व्यक्तियों की
प्रवृत्ति में भी
होती है
कुछ व्यक्तियों की
वाणी में भी
लेकिन
उपरोक्त खुशबु के स्वामी
सभी नहीं होते

-विनोद सिल्ला©

You might also like