राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण पर कविता / शिवराज चौहान

यह हिंदी कविता – राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण पर रचित है .  एक हिंदू मंदिर है जो भारत के उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम जन्मभूमि के पवित्र तीर्थ स्थल पर पुनः नए रूप में बनाया जा रहा हेैं। राम जन्मभूमि राजा राम का जन्मस्थान है, जिन्हे भगवान विष्णु के सातवे अवतार के रूप में पूजा जाता है। मंदिर का निर्माण श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र द्वारा किया जाएगा।

राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण पर कविता / शिवराज चौहान

shri ram hindi poem.j


*राम जन्म भू मंदिर पूजन,*
*नव दिन का आगाज हुआ।*
*आज अयोध्या में फिर से,*
*मेरे रामलला का राज हुआ।।*

सदियां बीती इंतजार में,
कब ऐसा दिन आएगा।
जब मंदिर के गुरु शिखर पे,
धर्म ध्वज फहराएगा।।
आखिर केसरिया फिर से,
हर हिंदू का सरताज हुआ…

सुबक रही थी सरयू सरिता,
देख दशा हालातों की।
चरण पखारूं रघुनंदन के,
सोच यही दिन रातों की।।
सरयू सपना साकार हो गया,
नया सवेरा आज हुआ…

हनुमानगढ़ी से बजरंग बाला,
सेवा को तैयार दिखे।
खत्म हुआ अब इंतजार,
प्रफुल्लित अपरम पार दिखे।।
उद्घोष जय श्री राम संग,
उल्लासित सर्व समाज हुआ…

इठलाई है जन्म धरा,
अपने बदले दिनमानो से।
गुंजित ये ब्रह्मांड हो गया,
श्रीराम के मंगल गानों से।।
पाकर रघुनंदन दर्शन,
धन्य आज “शिवराज” हुआ…
राम जन्म भू मंदिर पूजन,
नव दिन का आगाज हुआ…

*शिवराज चौहान*
*नांधा* रेवाड़ी।
(हरियाणा)

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.