चैत्र शुक्ल पूर्णिमा श्री हनुमान जयंती

मेरे रामलला का राज हुआ-शिवराज चौहान

*राम जन्म भू मंदिर पूजन,* *नव दिन का आगाज हुआ।**आज अयोध्या में फिर से,* *मेरे रामलला का राज हुआ।।*सदियां बीती इंतजार में, कब ऐसा दिन आएगा।जब मंदिर के गुरु शिखर…

टिप्पणी बन्द मेरे रामलला का राज हुआ-शिवराज चौहान में
बन पवनकुमार
kavita

बन पवनकुमार

बन पवनकुमार पवन वेग से चल तू, बन के पवनकुमार। रहे सदा अडिग अविचल,जीत ले हर बार॥ माँ भारती गुहारती,अब मुझे सजना है। हर गाँव हर शहर को, स्वर्ग-सा रचना…

0 Comments
हनुमान जंयती
kavita

हनुमान जंयती

हनुमान जंयती "धरव -पकड़व -कुदावव" अउ सब्बो झन तोआवव। चढ़गय बेंदरा रूख म त, ढेला घलव बरसावव। अइसने करम करत हावे, आज के मनखे। मनावत हे "हनुमान जयंती" सीधवा अस…

0 Comments

हनुमत वंदना

मंगलकारी प्रभात, राम नाम जाप कर, चित्त निज साफ कर, पवनसुत ध्यान धर,प्रभु को पुकारिये। भेद भाव भूल कर, क्रोध अहं नाश कर, बजरंगी शरण जा, जीवन सुधारिये।। राम भक्त…

0 Comments