सिरपुर की कविता

0 527

27 सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस मनाया जाता है। विद्यालय में इस दिन पर्यटन का महत्व बताते हुए प्रान्त तथा देश के पर्यटन स्थलों की विस्तृत जानकारी करानी चाहिए। पर्यटन के विभिन्न साधनों से अवगत कराते हुए सड़क मार्ग तथा रेलमार्गों के नक्शे लगाकर महत्वपूर्ण स्थलों तक पहुँचने का मार्ग तथा समय, व्यय आदि भी बताने चाहिए। पर्यटन के समय क्या क्या सामग्री साथ में लेनी चाहिए, किन-किन सावधानियों को ध्यान में रखना है, इस प्रकार की सारी शिक्षा इस अवसर पर आसानी से दी जा सकती है। वर्ष में एक बार पर्यटन का कार्यक्रम रखना भी बहुत उपयोगी सिद्ध हो सकता है। यह भी विद्यालय की गतिविधियों का विशेष अंग हो, जिसके लिए अर्थ-व्यवस्था तथा यात्रा क्रम, विश्राम स्थल आदि का प्रबन्ध पहले से किया जाना चाहिए।

सिरपुर की कविता

सिरपुर की कविता
सिरपुर की कविता

सिरपुर की है , इतिहास गहरा।
छत्तीसगढ़ की है, ये पावन धरा।
गौरव बढ़ाता लक्ष्मणेश्वर ।
यश फैलाता महादेव गंधेश्वर।
भग्नावशेष है स्वास्तिक विहार के,
जिसमें विराजे गौतम बुद्धेश्वर ।
श्रीपुर है दिव्य स्थल,
जहाँ देवों का पहरा ।
छत्तीसगढ़ की है, ये पावन धरा।1

दक्षिण कोशल की है जो राजधानी ।
पांव पखारे जिसे ,महानद की पानी ।
राम-लक्ष्मण की मंदिर है जहाँ, सुहानी ।
बनाया था जिसे हर्ष की वासटा महारानी ।
शैव,वैष्णव,बौद्ध,जैन धर्म से जुड़ी
यहाँ पर उनकी चिह्न प्रतीकों से भरा।
छत्तीसगढ़ की है, ये पावन धरा।2

दूरस्थ क्षेत्रों से आते चित्रांगदापुर ।
अखिल विश्व धरोहर में, है मशहुर ।
सातवीं शताब्दी में आया जो भूकंप
हो गई फिर यह दिव्य स्थल चूर-चूर ।
कला स्थापत्य धर्म अध्यात्म से पूर्ण
सोमवंशी राजाओं का था यहाँ डेरा।
छत्तीसगढ़ की है, ये पावन धरा।3
(✒ मनीभाई ‘नवरत्न’, छत्तीसगढ़ )

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.