22 अप्रैल विश्व पृथ्वी दिवस (22 April World Earth Day)

धरती हमारी माँ

धरती हमारी माँ हमको दुलारती है                  धरती हमारी माँ।                आँचल पसारती है      …

टिप्पणी बन्द धरती हमारी माँ में

प्रकृति का महत्त्व (prakriti ka mahatv)

प्रकृति का महत्व (prakriti ka mahatv) सप्त सुरीला संगीत है , प्रकृति का हर तत्व । सजा देता यह जीवन राग, भर देता है महत्त्व। एक एक सुर का अपना…

टिप्पणी बन्द प्रकृति का महत्त्व (prakriti ka mahatv) में
चोंका -फूल व भौंरा
choka

चोंका -फूल व भौंरा

चोंका -फूल व भौंरा ★★★★★बसंत परफूल पे आया भौरा बुझाने प्यास।मधुर गुंजन सेभौरा रिझाताचूसता लाल दलपीकर रसभौंरे है मतलबीक्षुधा को मिटाबनते अजनबीफूल को भूलछोड़ दी धूल जानउसे अकेला।शोषको की तरहमद से…

टिप्पणी बन्द चोंका -फूल व भौंरा में
तोड़े हुए रंग-विरंगे फूल:नरेन्द्र कुमार कुलमित्र
kavita

तोड़े हुए रंग-विरंगे फूल:नरेन्द्र कुमार कुलमित्र

नरेन्द्र कुमार कुलमित्र: तोड़े हुए रंग-विरंगे फूल टीप-टीप बरसता पानी छतरी ओढ़े सुबह-सुबह चहलकदमी करते घर से दूर सड़कों तक जा निकला देखा-- सड़क के किनारे लगे हैं फूलदार पौधे…

टिप्पणी बन्द तोड़े हुए रंग-विरंगे फूल:नरेन्द्र कुमार कुलमित्र में
हिन्दी कविता: प्रकृति का इंसाफ- मोहम्मद अलीम
KAVITA BAHAR LOGO

हिन्दी कविता: प्रकृति का इंसाफ- मोहम्मद अलीम

प्रकृति का इंसाफ 1.उदयाचल से अस्ताचल तक,कैसी ये वीरानी है |उत्तर से दक्षिण तक देखो ,मानव माथ पर परेशानी है || 2. पूरब से चली दनुज पुरवाई ,मानव मानव का…

टिप्पणी बन्द हिन्दी कविता: प्रकृति का इंसाफ- मोहम्मद अलीम में
पृथ्वी दिवस विशेष : ये धरा अपनी जन्नत है
3 जुलाई अंतर्राष्ट्रीय प्लास्टिक बैग मुक्त दिवस

पृथ्वी दिवस विशेष : ये धरा अपनी जन्नत है

ये धरा अपनी जन्नत है ये धरा,अपनी जन्नत है।यहाँ प्रेम,शांति,मोहब्बत है। ईश्वर से प्रदत्त , है ये जीवन।बन माली बना दें,भू को उपवन।हमें करना अब धरती का देखभाल।वरना पीढ़ी हमारी,हो…

0 Comments
चोका:  कहाँ मेरा पिंजर
choka

चोका: कहाँ मेरा पिंजर

*चोका 1* कहाँ मेरा पिंजर ? ★★★★★ उड़े विहंग~ नाप रहे ऊंचाई। धरा से नभ जुदा व तनहाई। तलाश जारी सही ठौर ठिकाना। मन है भारी भूल चुके तराना। जिद…

0 Comments
चोका – कौन है चित्रकार ?-मनीभाई”नवरत्न”
choka

चोका – कौन है चित्रकार ?-मनीभाई”नवरत्न”

चोका:- कौन है चित्रकार ? ★★★★★★★ खुली आंखों से मैं खड़ा निहारता विविध चित्र। कौन है चित्रकार ? कल्पनाशील ये धरा,नदी,वन विविधाकाय किसकी अनुकृति अंतर लिए अंचभित करता हर दिवस…

0 Comments