KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@श्रावण कृष्ण पंचमी नागपंचमी पर हिंदी कविता

श्रावण कृष्ण पंचमी नागपंचमी

नागपंचमी पर हिन्दी कविता

नागपंचमी पर हिन्दी कविता गीत- उपमेंद्र सक्सेना एडवोकेट नाग पंचमी के अवसर पर, नागों का पूजन कर आएँआस्तीन में नाग छिपे जो, उनसे तो भगवान बचाएँ।मानवता का ओढ़ लबादा, सेवा का जो ढोंग कर रहेजिसको चाहें डस लेते वे, पीड़ित कितना कष्ट अब सहेइच्छाधारी बने आज जो, वे तो हैं सब से टकराएँ आस्तीन में नाग छिपे जो, उनसे तो भगवान बचाएँ।सरकारी ठेका है जिनपर,…
Read More...

नाग पंचमी पर कविता – अमृता प्रीतम

नाग पंचमी पर कविता - अमृता प्रीतम श्रावण कृष्ण पंचमी नागपंचमी Shravan Krishna Panchami Nagpanchami मेरा बदन एक पुराना पेड़ है...और तेरा इश्क़ नागवंशी –युगों से मेरे पेड़ कीएक खोह में रहता है। नागों का बसेरा ही पेड़ों का सच हैनहीं तो ये टहनियाँ और बौर-पत्ते –देह का बिखराव होता है... यूँ तो बिखराव भी प्याराअगर पीले दिन झड़ते हैंतो हरे…
Read More...