KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

दोहा

दोहा अर्द्धसम मात्रिक छंद है। यह दो पंक्ति का होता है इसमें चार चरण माने जाते हैं | इसके विषम चरणों (प्रथम तथा तृतीय) में १३-१३ मात्राएँ और सम चरणों (द्वितीय तथा चतुर्थ) में ११-११ मात्राएँ होती हैं।
Doha is a semantic verse. It is of two lines, it consists of four steps. Its odd phases (first and third) have 13–13 quantities and even phases (second and fourth) have 11–11 quantities.