KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

आज जानकारियों का बढ़ गया भण्डार है

0 10

आज जानकारियों का बढ़ गया भण्डार है

आज जानकारियों का बढ़ गया भण्डार है.
कुछ सच्ची कुछ झूठी , कुछ की महिमा अपरम्पार है l


कुछ यू – ट्यूब पर चला रहे चैनल , कुछ के ब्लॉग बेमिसाल हैं.
वेबसाइट के अंदाज़ भी निराले हैं , कुछ इन्स्टाग्राम , एफ़ बी , ट्विटर के मतवाले हैं l


खे रहे हैं सब अपनी – अपनी नावें,
कुछ को हासिल मंजिल, कुछ बीच मझधार हैं l


व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी की अपनी ही माया है.
फेसबुक , ट्विटर पर हर कोई छाया है l


किसी के दुःख दर्द से , किसी को कोई फ़र्क नहीं पड़ता.
सूचनाओं का बाज़ार गर्म होना चाहिए l


गम किसी के कम हों न हों , क्यों सोचें.
टी आर पी का खेल बदस्तूर चलते रहना चाहिए l


कोई आविष्कार का बना रहा वीडियो तो कोई सुसाइड का.
कोई डूबते हुए का बना रहा वीडियो, तो कोई तेज़ाब में नहा चुकी ……..का l


किसी को फ़र्क पड़े तो पड़े क्यों.
यू – ट्यूब से कमाई की राह निकलती रहनी चाहिए l


आज जानकारियों का बढ़ गया भण्डार है
समाज अपनी ही तरक्की पर शर्मशार है l


संस्कृति, संस्कारों को बचाने की आज चुनौती है
“ बाबे “ निकल रहे बहुरूपिये , ये अजब कसौटी है l


नेता धर्म का कर रहे अतिक्रमण
राम के नाम पर लग रही बोली है l


मंदिरों पर अंधाधुंध चढ़ावे चढ़ रहे हैं
झोपड़ी में लाल भूख से बिलख रहे हैं l


कोरोना का भयावह रूप देखकर भी नहीं सुधरी दुनिया
इस भयावह त्रासदी में करोड़ों की उजड़ गयी दुनिया l


“ बाबे “ सभी हो गए बिज़नेसमैन
गली – मुहल्लों में खुल रही इनकी दुकान है


प्रकृति से खिलवाड़ को समझ रहे तरक्की का सिला
कभी सुनामी कभी बाढ़ कभी भूकंप तो कभी कोरोना की मार है l


पहाड़ों का दिल चीरकर कम कर रहे दूरी
अजब तरक्की का गजब बुखार है l


कोरोना ने इंसान को कीड़े मकोड़ों की तरह कुचला
फिर भी इंसान का दिल इंसान की मौत पर नहीं पिघला l


मंदिरों में घंटों की ध्वनि पर लग गया विराम
आज भी डीजे पर नाचने वालों को कहाँ आराम l


आज अजब नज़ारे दिखा रही है ये धरा और ये आसमां
अभी भी चाहे तो संभल जा ए आदम की औलाद , अपनी जिन्दगी को नासूर न बना l

तरक्की के मायने बदल, लिख सके तो लिख इबारत इंसानियत की तरक्की की
सजा सके तो सजा महफ़िल , खुदा की इबादत की l

इस नायाब प्रकृति को बना अपनी जिन्दगी का हमसफ़र
सिसकती सांसों का बन मरहम , इस धरा को कर रोशन l

आज जानकारियों का बढ़ गया भण्डार है
कुछ सच्ची कुछ झूठी , कुछ की महिमा अपरम्पार है ll

Leave a comment