KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ – कविता – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ – कविता – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

इस कविता के माध्यम से मैं जिंदगी के विभिन्न पहलुओं की ओर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता हूँ ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना कहाँ तमाम करूँ – कविता – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

टूटा था दिल वहां से, या संभला था दिल जहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

संवरे थे मेरे सपने वहां से, या बिखरे थे वहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

जुड़ी थी यादें वहां से, या टूटे थे रिश्ते जहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

जब रोशन हुआ था दिल वहां से, या तनहा हुआ था जहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

चंद कदम चले थे वहां से, या जुदा हो गए थे जहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

रोशन हुआ था मुहब्बत का कारवाँ वहां से, या बिखरे थे सपने वहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

जब पहली बार हम मिले थे वहां से, या अंतिम दीदार हुए थे वहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

जब रोशन हुई थी कलम वहां से, या उस खुदा की इनायत का कारवाँ रोशन हुआ वहां से

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

कहाँ से छेड़ूँ फ़साना , कहाँ तमाम करूँ

Leave A Reply

Your email address will not be published.