KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

कुंडलियाँ — बेटी

1 235

     कुंडलियाँ: बेटी

 

बेटी जा पिया के घर ,

           गुड़िया नहीं रोना ।

सजा उस घरोंदे को,

           साफ सुथरा रखना।।

साफ सुथरा रखना, 

       पति सेवा तुम करना।

रखना इतनी चाह,

       झगड़ा कभी न करना ।।

कह डिजेन्द्र करजोरि,

         धन संग्रह रखना बेटी ।

रख ख्याल नाती का,

            खुश रहें मेरी बेटी।।

~~~~~~~~~~~~~~~~

डिजेन्द्र कुर्रे”कोहिनूर”

Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. मनीभाई says

    बहुत बढ़िया रचना