KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

जीवन का पाठ है योग

0 80

जीवन का पाठ है योग

भौतिक सुखों को त्याग कर ,
सही दिशा में प्रयास कर, 
रहना अगर निरोग तुझे ,
मानव नित योग का उपयोग कर।।

पौराणिक संस्कृति संभाल उसका सार,
नहीं तो विदेशी कर देंगे तार तार, 
युवा तुझे ही बनना होगा ढाल ,
न लुप्त होने देना योग विचार ।।

जीवन का पाठ है योग ,
आओ मिलकर करें सब लोग ,
आसन सीख कर सिखाएं ,
जीवन भर नहीं होगा रोग।।

अरुणा डोगरा शर्मा

८७२८००२५५५

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.