बसन्त

बसन्त
आया बसन्त
प्रकृति में बहार
लाया बसन्त
खिले प्रसून
उपवन शोभित
मंद पवन
तरु लतिका
फल- फूल से लदे
दृश्य वन का
प्यारे लगते
फूले सरसों खेत
मन हरते
शुभ पूजन
माता सरस्वती का
कर वंदन
वर विद्या का
यश वैभव छाये
माँ की भक्ति का
पुष्पाशर्मा”कुसुम”
(Visited 1 times, 1 visits today)