KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

मीरा के पिरामिड

0 66

मीरा के पिरामिड

हे
वायु
तनय
हनुमान
दे वरदान
रहें खुस हाल
प्रभू  हर हाल में ।

हे
दुखः
हर्ता हे
बजरंगी
राम दुलारे
भक्तन पुकारे
हे कष्ट विनाशक।

माँ
सीता
को प्यारे
ले-मुदृका
समुद्र लांधे
सिया सुधि लाये
भक्तन हितकारी ।

श्री
राम
छपते
लंका जला
दानव   दल
संहार  करके
बाग उजारे प्रभू।

ले
वैद
सुखेन
संजीवनी
लेकर आये
प्राण  लक्ष्मण के
बचाये     बजरंगी ।

हे
देव
मनाये
तुम्हें रक्षा
करो जगत
भव ताप हरो
हे नाथ  महाबली ।

केवरा यदु “मीरा “

Leave A Reply

Your email address will not be published.