KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

मेरी और पत्नी की तकलीफ़

0 109

मेरी और पत्नी की तकलीफ़ – 30.04.2020
——————————–/
मेरी पत्नी दोपहर बाद
अक़्सर कुछ खाने के लिए
मुझे पूछती है
मैं सिर हिलाकर
साफ मना कर देता हूँ
मेरे मना करने से
उसे बहुत बुरा लगता है
कि मैंने उसकी मेहनत और प्यार से
बनाई चीजों का तिरस्कार किया है

पर उसे पता नहीं होता
कि मेरे खाने की इच्छा होने पर भी
मैं जब-जब उसकी बनाई
चीजों को खाने से मना करता हूँ
इसका मतलब होता है
मैं भी उस्से इक छोटी-सी बात पर
नाराज़ हूँ

कुछ देर पहले ही
मैंने उसे अपनी रची हुई कविता
सुनाना चाहा था
या फिर किसी लेखक की
पढ़ी हुई अच्छी कहानी के बारे में
बताना चाहा था
पर पत्नी ने
बाद में सुनाना
या बाद में बताना कहकर
अंजाने में ही मुझे नाराज़ कर गई थी

मेरी पत्नी को
जितनी तकलीफ़
उसकी बनाई हुई चीजों को
मेरे न खाने से होती है
लगभग उतनी ही तकलीफ़
मुझे मेरी रची हुई कविता को
पत्नी के न सुनने से होती है।

— नरेन्द्र कुमार कुलमित्र
9755852479

Leave A Reply

Your email address will not be published.