KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बाबा गुरु घासीदास

0 155

कुंडलियाँ — बाबा गुरु घासीदास

सन्देशा गुरुदेव का,
मानव सभी समान।
सत्य ज्ञान जो पा सकें ,
वह ही है इंसान ।।
वह ही है इंसान,
ज्ञान को जिसने जाना ।
मानव सेवा धर्म,
ज्ञान को सबकुछ माना ।।
कह डिजेंद्र करजोरि,
नही हो अब अन्देशा।
सदा बढ़ाये मान ,
अमर है गुरु सन्देशा।।

~~~~~●●●●~~~~~~~~
रचनाकार-डिजेंद्र कुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभावना,बलौदाबाजार (छ.ग.)
मो. 8120587822

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.