17 मई विश्व दूरसंचार दिवस के अवसर पर एक कविता

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar # Dursanchar divas #17 May
#maneelal patel

दूरसंचार
~~~\\\~~~
चहल-पहल है,मची उथल पुथल ।
आज कुछ और अलग कुछ कल।
सूचना प्रसारण में आज हलचल।
होती परिवर्तन देख लो प्रतिपल।
बदल रही है जिंदगी ,हो गई तेज रफ्तार ।
पल में देखो , बदल गई है सारा संसार ।।
संदेशा लें जाता कोई संवदिया।
फिर चली, दूरसंचार का पहिया।
कबूतरों  ने खत को पहुँचाया ।
वही खत लेटर बाॅक्स में आया।
तब हो गई थी ,पाण्डुलिपि का आविष्कार ।
आजादी में भूमिका में थे,  तब के अखबार ।
फिर विज्ञान ने, दी अपनी दस्तक
और तार से , झट संदेश पहुंचाया।
तार के बाद संदेश अब, बेतार हुआ
उपग्रह ने अंतरिक्ष में कदम जमाया।
मानव जीवन आबाद हुआ,सपने भी साकार।
जैसे -जैसे विकसित होने लगी  दूरसंचार ।।
संगणक ने बदल के रख दी  तस्वीर ।
तकनीकी चरम में गई,तोड़ के जंजीर ।
आज मोबाइल यंत्र है , सब  के  हाथ ।
आदमी कहीं जाये तो,जग रहता साथ ।
देश-विदेश के खबर से, जुड़ी है ई-अखबार ।
दुनिया पूरी देख सकें हम, टीवी में है संसार।
(रचयिता :- मनी भाई भौंरादादर बसना  )
(Visited 3 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़