आदि भवानी-रामनाथ साहू ” ननकी ”                  

            

नवदुर्गा नव रूप है ,
                      नित नव पुण्य प्रकाश ।
साधक जन के हृदय से ,
                      तम मल करती नाश ।।
तम मल करती नाश ,
                  विमलता से मति भरती ।
उज्ज्वल सतत् भविष्य ,
                   नाश दुर्गुण का करती ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
                   अरे मन माँ के गुण गा ।
अद्भुत शक्ति अनंत
                        संघ हैं श्री नवदुर्गा ।।

               ~  रामनाथ साहू ” ननकी “

                             मुरलीडीह

(Visited 6 times, 1 visits today)