KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

आदमी और कविता – हरदीप सबरवाल

आदमी और कविता – हरदीप सबरवाल द्वारा रचित आज के कविताओं के विषय पर यथार्थ और करारा व्यंग्य किया गया है।

0 47

आदमी और कविता – हरदीप सबरवाल द्वारा रचित आज के कविताओं के विषय पर यथार्थ और करारा व्यंग्य किया गया है।

आदमी और कविता – हरदीप सबरवाल


सिर्फ आदमी ही नहीं बंटे हुए,
जाति, धर्म, संप्रदाय या वर्ण में,
इन दिनों
जन्म लेती कविता भी,
ऐसे कई साँचों में ,
ढल कर निकलती है,
यूँ कहने भर को
कविता का उद्देश्य था
आदमी को
सांचों से मुक्त करना,
पर आदमी ने
कविता को ही
अपने जैसे बना दिया…..

© हरदीप सबरवाल

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.