KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सखी के लिए कविता -डॉ0 दिलीप गुप्ता

1 125

आओ न सखी – डॉ0 दिलीप गुप्ता

सखी के लिए कविता -डॉ0 दिलीप गुप्ता


रिमझिम बरसे.मन है हरसे
प्रणय को ब्याकुल हिरदय होवे,
सात समंदर पार है सजनी
बिरह में बदरा-मेघा रोवे…..
तप्त हृदय की अगन बुझाने—–
आओ न सखी.. आओ न सखी।।–।।
00
नीला अम्बर,हरी-भरी धरती
नाचत मोर रिझावत सजनी,
उपवन डार-पात लदे फूलन
महकी रातरानी यहां रजनी,
सुने आंगन को महकाने—-
आओ न सखी…आओ न सखी।।–।।
00
धरती भीगी मन मोरा लथपथ
प्रेम का पपीहा बोले,
प्रणय को आकुल नृत्य करत है
मोर अपने पंख को खोले
पिय के हिय की आग बुझाने…
आओ न सखी… आओ न सखी।।–।।
00
उपवन फूलों से भर आए
उन पर भौंरन हैं मंडराए,
देखी डार- पात-फूलन पर
बैठी तितली रास रचाए,
ऐसे में मुझको गले लगाने….
आओ न सखी… आओ न सखी।।


डॉ0 दिलीप गुप्ता

Show Comments (1)