KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

दिवाली मनाबो-प्रकाश दास मानिकपुरी

0 154

दिवाली मनाबो

शुभ दीपावली

सब के घर म उम्मीद के दिया जलाबो,
युवा शक्ति के अपन लोहा मनवाबो,
अपन शहर ल नावा दुल्हन कस सजाबो,
चला संगी ए दारी अइसे दिवाली मनाबो।

बेरोजगार ल रोजगार दिलवाबो,
दू रोटी खाबो अउ सब ल खवाबो,
रद्दा बिन गड्ढा, समतल बनाबो,
चला संगी ए दारी अइसे दिवाली मनाबो।

अमीर गरीब के फरक ल मेटा के,
सब झन ल अपन अधिकार देवाबो,
एक व्यक्ति-एक पेड़ के नारा ले,
अपन शहर ल हरिहर बनाबो।

चला संगी ए दारी अइसे दिवाली मनाबो,
चला संगी ए दारी अइसे दिवाली मनाबो।

© प्रकाश दास मानिकपुरी✒✍
? 8878598889 रायगढ़ (छ. ग.)
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.