KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

अल्हड़ बचपन -मनीभाई नवरत्न (तांका विधा)

बचपन को आधार मानकर लिखी गई मनीभाई नवरत्न की तांका आप के समक्ष प्रस्तुत

मनीभाई के तांका

●●●●●●●●●●●●
वो फटी पेंट
नाक में लगी सर्द
आते हैं याद
टूटे कुर्ते बटन
अल्हड़ बचपन।।
●●●●●●●●●●●●
वो बदमाशी
बेवजह झगड़ा
आते हैं याद
कट्टी का प्रहसन
अल्हड़ बचपन ।
●●●●●●●●●●●
जल्दी से खाना
देर तक घूमना
आते हैं याद
खेल में अनबन।
अल्हड़ बचपन ।
●●●●●●●●●●●●●
खड़िया चाक
कलम की दवात
आते हैं याद
वो जनगणमन।
अल्हड़ बचपन ।

●●●●●●●●●●●●

दोस्तों की टोली

वो तुतलाती बोली

आते हैं याद
पहाड़ा का रटन
अल्हड़ बचपन।

●●●●●●●●●●●●

बेर का पेड़

अड्डा तालाब मेड़
आते हैं याद
गांव में मधुवन
अल्हड़ बचपन।

🖋मनीभाई नवरत्न, छत्तीसगढ़

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.