अल्हड़ बचपन -मनीभाई नवरत्न (तांका विधा)

मनीभाई के तांका

●●●●●●●●●●●●
वो फटी पेंट
नाक में लगी सर्द
आते हैं याद
टूटे कुर्ते बटन
अल्हड़ बचपन।।
●●●●●●●●●●●●
वो बदमाशी
बेवजह झगड़ा
आते हैं याद
कट्टी का प्रहसन
अल्हड़ बचपन ।
●●●●●●●●●●●
जल्दी से खाना
देर तक घूमना
आते हैं याद
खेल में अनबन।
अल्हड़ बचपन ।
●●●●●●●●●●●●●
खड़िया चाक
कलम की दवात
आते हैं याद
वो जनगणमन।
अल्हड़ बचपन ।

●●●●●●●●●●●●

दोस्तों की टोली

वो तुतलाती बोली

आते हैं याद
पहाड़ा का रटन
अल्हड़ बचपन।

●●●●●●●●●●●●

बेर का पेड़

अड्डा तालाब मेड़
आते हैं याद
गांव में मधुवन
अल्हड़ बचपन।

🖋मनीभाई नवरत्न, छत्तीसगढ़
(Visited 7 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे