महात्मा गाँधी पर दोहे

महात्मा गाँधी पर दोहे ★★★★★★★★★★★★★★★★ सत्य धरम की राह पर,चलकर हुए महान। भारत आज स्वतंत्र है,पा जिनका अवदान।। परम अहिंसा धर्म का,बनकर नित ही भक्त। राग द्वेष छल दंभ का…

टिप्पणी बन्द महात्मा गाँधी पर दोहे में
हिन्दी कविता: अब तो पाठ पढ़ाना है
KAVITA BAHAR LOGO

हिन्दी कविता: अब तो पाठ पढ़ाना है

अब तो पाठ पढ़ाना है ★★★★★★★★★ फिर सीमा में आ जाए तो, गलवान को याद दिलाना है। दुस्साहस कर न सके वह, ऐसी सबक सिखाना है। ए वीर जवानों सुन लो, सबको यह बताना है। कब तक चीनी विष घोलेंगे, अब तो पाठ पढ़ाना है। प्राण जाय पर वचन न जाय, ऐसी कसम जो खाना है। थर थर काँप उठे रूह उनका, ऐसी सजा दिलाना है। कलाम की परमाणु याद दिला दो, बासठ का अब नही जमाना है। कब तक चीनी विष घोलेंगे, अब तो पाठ पढ़ाना है। ★★★★★★★★★★★★ रचनाकार-डिजेन्द्र कुर्रे "कोहिनूर" पीपरभावना,बलौदाबाजार(छ.ग.) मो. 8120587822

टिप्पणी बन्द हिन्दी कविता: अब तो पाठ पढ़ाना है में
कविता:भीम बाबा
KAVITA BAHAR LOGO

कविता:भीम बाबा

तांटक छंद - भीम बाबा ★★★★★★★★★★★ दुख दर्दो को झेल जनम भर, निर्धनता के मारे थे। बाबा अपने निज कर्मो से, इस जग में उजियारे थे। ★★★★★★★★★★ छुवाछुत को मानवता…

टिप्पणी बन्द कविता:भीम बाबा में

नारी पर दोहे- डिजेन्द्र कुर्रे”कोहिनूर”

नारी पर दोहे ★★★★ नारी की यशगान हो ,नारी की ही रूप । नारी के सहयोग से,मिलते लक्ष्य अनुप।। नारी बिन कब पूर्ण है?एक सुखी परिवार। नारी जो सुरभित रहे,…

0 Comments

हिन्दी कविता : नंद नयन का तारा है,विधा तांटक छंद,डिजेन्द्र कुर्रे

इस रचना को अधिक से अधिक शेयर करें ताटंक छंद - नंद नयन का तारा है ★★★★★★★★★★★ कोयल कूके जब अमुवा पर, मन भौंरा इठलाता है। तान बाँसुरी की मधुरिम…

0 Comments

हिन्दी कविता : कोहिनूर की आभा विधा दोहे रचनाकार डिजेन्द्र कुर्रे

*कोहिनूर की आभा* ★★★★★★★★★★ सार भरा ऋग्वेद में ,देवों का आह्वान। लिखा वेद जी व्यास ने,जिसका अतुल विधान।। यजुर्वेद में मंत्र का,पावन है विस्तार। मुनिजन जिसको बाचकर,पाएं जीवन सार।। तन…

0 Comments